Rating:
0
बॉस आप हैं; समय नहीं! (eBook)

बॉस आप हैं; समय नहीं! (eBook)

by प्रकाश पाण्डेय (write a review)
Type: e-book
Genre: Philosophy, Self-Improvement
Language: Hindi
Price: Rs.50.00
Available Formats: PDF Immediate Download on Full Payment
Preview
Description of "बॉस आप हैं; समय नहीं! (eBook)"

आजकी दौड़-भाग भरे जीवनमें, हम समयके प्रबंधन के द्वारा अपनी कार्य-शैलीमें सुधार कर सकते हैं। समय के प्रबंधन के द्वारा हर कार्य ना सिर्फ उचित ढ़ंग से होता है, अपितु कम समयमें अधिक कार्य करने का कौशल्य भी हासिल हो सकता है। हर सफल इन्सानकी सफलताका एक राज़ उसका टाइम-मेनेजमेंट भी रहा है। बक़ौल एच जेकसन ब्राउन, आप ये कैसे कह सकते हैं कि, आपके पास वक़्त नहीं है? आपके पास उतना ही वक़्त है जितना हैलन केलर, लुई पाश्चर, माइकल एंजलो, मदर टेरेसा, लियो नार्डो द विंची या अल्बर्ट आइन्स्टाइन के पास था! किसी ने ठीक ही कहा है कि, यदि आपने कोई लक्ष्य निर्धारित किया तो उसके लिए शुभ घड़ीकी प्रतीक्षा ना करें। राह देखने से लक्ष्य प्राप्ति का मार्ग कमतर नहीं होता।
हम समय का मूल्य समझें और भाग रहे समयको एक कुशल पाइलट की तरह नियंत्रित करें, उसका नियमन एवं प्रबंधन करें। इसके लिए हम में धैर्य और आत्मसंयम होना जरूरी है। अपनी मानसिक एवं शारीरिक क्रियाओं पर हमारा पूर्ण नियंत्रण हो तभी हम समय का दुरुपयोग रोक पाएंगे। ईश्वर हमें रोज़ 24 घंटे का एक चैक देता है, जिसे हमें उसी रोज़ खर्च कर देना है। बचत को हम दूसरे दिन के बैलेन्स के तौर पर नहीं ले जा सकते। दूसरे दिन ऐसा ही एक और चैक मिल जाता है! जीवन के ध्येय प्राप्तिमें हम यह यथार्थ जितना जल्द समझ लें, हमारे लिए बेहतर है।

About the author(s)

समय के बारेमें जो कुछ पढ़ा व कैमिकल इंजीनियर होनेके अपने अनुभव के दौरान जो सीखा व सँजोया उसे यहाँ सरल शब्दों में लिखने की कोशिश की है।

Book Details
Availability: Available for Download (e-book)
Other Books in Philosophy, Self-Improvement
I work for me
I work for me
by Snehal R Singh
Reviews of "बॉस आप हैं; समय नहीं! (eBook)"
No Reviews Yet! Write the first one!

Payment Options

Payment options available are Credit Card, Indian Debit Card, Indian Internet Banking, Electronic Transfer to Bank Account, Check/Demand Draft. The details are available here.