Rating:
0
Gam-e-Hijraan (eBook)

Gam-e-Hijraan (eBook)

Collection of Poems

by Manju Shivpuri Malhotra 'Kasak' (write a review)
Type: e-book
Genre: Poetry
Language: Hindi
Price: Rs.60.00
Available Formats: PDF Immediate Download on Full Payment
Preview
Description of "Gam-e-Hijraan (eBook)"

अपने इस कविता संग्रह ‘गमे हिज्रां’ के बारे में केवल इतना ही कहूंगी कि यह सदाऐं उस बेचैनी की है जिन में सुकून भी है और बेकरारी भी है। यह ऐसी सदाऐं हैं जो कभी तड़पाती है – कभी तरसाती है और कभी बेआवाज़ सिसकने पर मजबूर भी करती है। ज़रूरी नहीं कि यह ‘सदाऐं’ सुनाई भी दें – यह केवल मेहसूस की जासकती हैं।

About the author(s)

अपने माता पिता के कला प्रेम से प्रेरित मन्जू शिवपुरी को बचपन से ही चित्रकला और साहित्य में रुचि रही है जो उमर के साथ बढ़ती ही गई और वह अपनी भावनाओं को रंगों के साथ साथ शब्दों के माध्यम से भी प्रकट करती रही हैं। उनकी कविताओं के दो संग्रह ‘एहसास’ और ‘सदाऐं’ प्रकाशित हो चुके हैं। ‘गमे हिज्रां’ उनका तीसरा काव्य संग्रह है।

Book Details
Availability: Available for Download (e-book)
Other Books in Poetry
BALCONY POEMS EVEN POEMS
BALCONY POEMS EVEN POEMS
by SIDDHARTHA BAISHYA
यादगार हो तुम
यादगार हो तुम
by महेश रौतेला
ODYSSEY OF LOVE
ODYSSEY OF LOVE
by P. S. GUSAIN
TRANSIENT THOUGHT TRAVAILS
TRANSIENT THOUGHT TRAVAILS
by Meena R Shankar
Reviews of "Gam-e-Hijraan (eBook)"
No Reviews Yet! Write the first one!

Payment Options

Payment options available are Credit Card, Indian Debit Card, Indian Internet Banking, Electronic Transfer to Bank Account, Check/Demand Draft. The details are available here.