Rating:
0
गहरे अहसास - जितने दूर, उतने पास  (eBook)

गहरे अहसास - जितने दूर, उतने पास (eBook)

by दीपिका बंसल (write a review)
Type: e-book
Genre: Poetry
Language: Hindi
Price: Rs.50.00
Available Formats: PDF Immediate Download on Full Payment
Preview
Description of "गहरे अहसास - जितने दूर, उतने पास (eBook)"
About the author(s)

लिखने की इच्छा मुझे बचपन से ही थी, लेकिन जीवन की रोज़ मर्रा की दौड़ धूप, उतार चढ़ाव ने अब तक यूँ ही व्यस्त रखा और साथ में लिखने के शौक को खुद से दूर कर दिया। बहुत कुछ करने, सीखने की कोशिश ने जीवन को नए नए अनुभव दिए। अब फिर से लिखने की प्रेरणा मेरे मन में उजागर हुई है।अपनी पहली कविताओं की पुस्तिका प्रकाशित करवा रही हूँ। आशा है मेरा ये प्रयास सफल रहेगा।

Book Details
Availability: Available for Download (e-book)
Other Books in Poetry
Noorana
Noorana
by Sopaan Noor
The Burning Outcry
The Burning Outcry
by Writerstolli
11 love poems
11 love poems
by sourav sarkar
Thinking curves
Thinking curves
by Anwar Wali Gutti
Reviews of "गहरे अहसास - जितने दूर, उतने पास (eBook)"
No Reviews Yet! Write the first one!

Payment Options

Payment options available are Credit Card, Indian Debit Card, Indian Internet Banking, Electronic Transfer to Bank Account, Check/Demand Draft. The details are available here.