Rating:
0
Meri Ghazlein (eBook)

Meri Ghazlein (eBook)

Collection of Urdu Ghazals

by Rajendra Patwari 'Nashad' (write a review)
Type: e-book
Genre: Poetry
Language: Hindi
Price: Rs.60.00
Available Formats: PDF Immediate Download on Full Payment
Preview
Description of "Meri Ghazlein (eBook)"

गज़लगोई को उर्दु शायरी में सब से ऊन्चा स्थान दिया गया है I यही कारण है कि उर्दु शायरों में ऐसा कोई भी शायर नहीं है जिस ने गज़लगोई न की हो I राजेन्द्र पटवारी ‘नाशाद’ ने भी अपनी शायरी की शुरुवात 1965 में गज़लगोई से ही की है तथा लगभग पच्चास साल की अपनी साहित्यिक यात्रा में वह ज़्यादातर गज़लें ही लिखते रहे हैं I उनकी लिखी गज़लों में से कुछ गज़लें ‘मेरी गज़लें’ के इस संग्रह में शामिल हैं I
इस संग्रह में शामिल‘नाशाद’ की गज़लें उनके निजी तुलनात्मक कथन, उन की सोच, उन के दृष्टिकोण तथा उन की भावुकता को व्यक्त करती हैं I आशा है कि पाठकों को यह गज़लें पसन्द आऐंगी I

About the author(s)

राजेन्द्र पटवारी ‘नाशाद’ एक व्याव्सायिक चित्रकार और मूर्तिकार होने के साथ साथ उर्दु, हिंदी तथा अपनी मातृभाषा कशमीरी में भी नज़में तथा गज़लें लिखते रहते हैं I उन्होंने कई कहानियां भी लिखी हैं I रेडियो और टेलिविजन के लिऐ नाटक और डाक्युमेन्ट्रीज़ भी लिखें हैं I इनके अतिरिक्त कभी कभी समाचार पत्रों के लिऐ लेख लिखते रहते हैं I हिंदी में उनकी नज़मों तथा गज़लों का संग्रह ‘यास ओ हिरास’ 2013 में प्रकाशित हो चुका है I उनकी नई नज़मों का संग्रह ‘तनहाईयां’ हाल ही में www.pothi.com से ई-प्रकाशित हुआ है I

Book Details
Availability: Available for Download (e-book)
Other Books in Poetry
Moods and Moments
Moods and Moments
by Madhuri Samar
Bachelor Of Arts
Bachelor Of Arts
by Aftab Yusuf Shaikh
Tentatively
Tentatively
by Ashok Niyogi
My Operating Frequency
My Operating Frequency
by Akash Srivastava
Reviews of "Meri Ghazlein (eBook)"
No Reviews Yet! Write the first one!

Payment Options

Payment options available are Credit Card, Indian Debit Card, Indian Internet Banking, Electronic Transfer to Bank Account, Check/Demand Draft. The details are available here.