Rating:
0
मन की अन्ध गुफ़ाऐं (MAN KI ANDH GUFAIN)

मन की अन्ध गुफ़ाऐं (MAN KI ANDH GUFAIN)

by RAM RATAN BHATNAGAR (write a review)
Type: Print Book
Genre: Poetry
Language: Hindi
Price: Rs.300.00 + shipping
Preview
Price: Rs.300.00 + shipping

Due to the restrictions in place because of Covid-19 pandemic, Print books are temporarily unavailable.

Description of "मन की अन्ध गुफ़ाऐं (MAN KI ANDH GUFAIN)"
About the author(s)

राम रतन भटनागर (१९१४-१९९२) अपनी अनेक आलोचनात्मक पुस्तकों के द्वारा एक निष्पक्ष आलोचक के रूप में हिन्दी साहित्य में अपनी पहचान बना चुके हैं परन्तु एक कवि के रूप में उन्नीसवीं शती के उत्तरार्ध में छपी कतिपय पुस्तकें ही उनके कविकर्म को सामने रखती हैं। महाकवि निराला, पन्त, और महादेवी के सानिध्य की झलक उनकी इस दौर में लिखी कविताओं में हमें दिखती है। इसके बाद करीब बीस-बीस साल के अंतराल के बाद उनके कुछ संग्रह और प्रकाशित हुए। उनकी बहुसंख्य कविताऐं जिनमें इस अंतराल में हुए बदलाव और उनके स्वयं के बदलते लेखकीय सरोकार और शिल्प दिखाई देते हैं. अभी तक अप्रक्राशित ही रही हैं। इन कविताओं में अपनी पूरी जवाबदेही के साथ वे जीवन चेतना के बदलते स्वरूपों को हमारे सामने रखते हैं।

Book Details
Number of Pages: 
218
Dimensions: 
6 inch x 9 inch
Interior Pages: Black & White
Binding: Paperback (Perfect Binding)
Availability: In Stock (Print on Demand)
Other Books in Poetry
Kuchh Pal
Kuchh Pal
by Jaya Jha
The Stream Of My Heart
The Stream Of My Heart
by Ali Akbar Abedi
Nizhal Virikkunna Shakhakal
Nizhal Virikkunna Shakhakal
by Jameela Mary Cherian
RAMBLINGS
RAMBLINGS
by C M RAJAN
Reviews of "मन की अन्ध गुफ़ाऐं (MAN KI ANDH GUFAIN)"
No Reviews Yet! Write the first one!

Payment Options

Payment options available are Credit Card, Indian Debit Card, Indian Internet Banking, Electronic Transfer to Bank Account, Check/Demand Draft. The details are available here.